आल इंडिया लाइफ इंश्योरेंस अजेंट्स एसोसिएशन का इन्स्योरेंस सेक्टर पर जी एस टी के विरोध में अनिश्चित कालीन धरना

    आल इंडिया लाइफ इंश्योरेंस अजेंट्स एसोसिएशन  का भारत सरकार द्वारा इन्स्योरेंस सेक्टर पर जी एस टी कर कानून के विरोध एवं प्रबंधन भारतीय जीवन बीमा निगम के विरोध अपनी मांगों को लेकर चल रहे अनिश्चित कालीन धारना का तीसरा दिन धर्ना पर उपस्थित अभिकर्ता को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एल ठाकुर ने कहा की दिनांक 11.10.2018 तक उच्च प्रबंधन भारतीय जीवन बीमा निगम मांगों को नहीं मानता या किसी भी सक्षम अधिकारी द्वारा मांगें पूरी करने का लिखित आश्वासन नहीं देता है तो धर्ना-रत आंदोलनकारी अभिकर्ताओं द्वारा दिनांक 12.10.18 दिन शुक्रवार से आंदोलन की गति को तेज़ करते हुए प्रदर्शन को अनशन में बदलते हुए अपने कार्यों से विरत रहेंगे उक्त आंदोलन में उत्तर मध्य छेत्र के कानपुर लखनऊ इलाहाबाद गोरखपुर सहित अन्य डिवीजनों के हजारों अभिकर्ता भाग लेंगे ।

     

    धर्ना स्थल पर उपस्थित अभिकर्ताओं को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय कोशाध्यक्ष आर के त्रिपाठी ने कहा की संगठन भारत सरकार की जी एस टी नीति सहित प्रबंधन भारतीय जीवन बीमा निगम से आर पार की लड़ाई लेड़ेगा अगर प्रबंधन ने दिनांक 12.10.18 को होने वाले अनशन सहित बीमा व्यवसाय के कार्यों को ठप्प करने की पहल को अगर हल्के में लीआ तो इसका गंभीर परिणाम भी हो सकता है इसकी समस्त ज़िम्मेदारी उच्च प्रबंधन की होगी जिसने वर्षों वर्षों से चल रहे आंदोलन की गंभीरता को नहीं समझा ।  

     

    संगठन की मुख्य मांगें :

    1.   इन्स्योरेंस सेक्टर से जी एस टी कर कानून अविलंब वापस ले भारत सरकार

    2.   प्रेषित चार्टर ऑफ डिमांड पर तत्काल वार्ता करें उच्च प्रबंधन भा0जी0बी0नि

    3.   5 वर्ष स्थायी कलातीत पॉलिसी की अवधि बरकरार करे उच्च प्रबंधन भा0जी0बी0नि

    4.   पॉलिसी धारकों की पॉलिसी पर बोनस व्रद्धि करें उच्च प्रबंधन भा0जी0बी0नि

     

     

    धरना में उपस्थित मुख्य अभिकर्ताओं में कपिल देव सिंह छेत्रिय सचिव उत्तर मध्य छेत्र मण्डल महामंत्री अरविंद सहित सकड़ों पदाधिकारी अभिकर्ताओं के मुख्यतः अरविंद सिंह, रावर्टसगंज , रुद्र परताप सिंह , रसड़ा, मनोज मिश्रा ज्ञानपुर, सहाबुद्दीन भदोही, स्वर्ण सिंह , राजीव मिश्रा , संत तिवारी , निरालापप्पू साहनी, अब्दुल जब्बार साहब, लाल पटेल सहित सैकड़ों अभिकर्ता उपस्थित थे। 

कमेंट या फीडबैक छोड़ें